राहु-आज हम सभी की जरूरतों को राहू देव ने पूरी तरह से अपने कब्जे मे ले लिया है, मेरे हिसाब से यदि सच कहा जाये तो ये राहू और केतू सबसे अच्छे ग्रह हैं क्योकि ये किसी से भी कुछ भी करवाने की क्षमता रखते हैं और न तो ये कभी दिखाई देते हैं और ना ही कहीं से सुनाई देते हैं, लेकिन इनका प्रभाव तो ऐसा है कि हर कोई इनसे डरता है, फिर चाहे जो किसी भी पद पर बैठा अधिकारी हो या फिर नेता हो, चाहे वो अच्छे कर्म करता हो या फिर बुरे कर्म करता हो, और मजे की बात यह देखिये कि इनके पास सभी का एक दम सटीक लेखा-जोखा होता है, राहू-केतू जातक को तो डराते ही हैं बल्कि यह इतने शक्तिशाली हैं कि राहू देव ने तो सूर्य को भी अपनी परछाई से ढक लिया था, इसीलिए जब भी जन्मकुंडली मे सूर्य और राहू का मेल होता है तो जन्म कुंडली मे सूर्य ग्रहण लग जाता है, जिससे जातक का प्रभाव कभी भी किसी पर नहीं पड़ता है, बल्कि उसके हर काम 99% प्रतिशत पर आकर रुक जाते हैं, बे-वजह सरकारी काम मे या तो खराबी दे देते हैं, या फिर सरकार से संबन्धित बे-वजह की मुसीबत गले पड़ी रहती है, घर/ऑफिस/फ़ेक्टरी मे बे-वजह सरकार से संबन्धित नोटिस आते रहते हैं, यदि और खराब हों तो बचपन से पिता के सुख किसी ना किसी कारण खराब कर देते हैं, इसीलिए इनको बिगाड़ने का मतलब होता है, अपने सभी ग्रहों की ताकत को खराब कर लेना, और यदि ये अच्छे हों तो जातक को इतना समझदार और तेज दिमाग वाला बना देते हैं कि कोई भी बड़ा से बड़ा अफसर हो या नेता सभी इनकी मदद लेते हैं और सलाह मशवरा लेकर निर्णय लेते हैं।

राहु और चन्द्र का आपसी संबंध तथा सेहत पर पड़ने वाला प्रभाव-
देखिये मैं पहले भी अपने यूट्यूब चैनल पर भी बता चुका हूँ और ब्लॉग मे भी बता चुका हूँ कि इस पृथ्वी पर जो 5 तत्व हैं और उनसे जो हमारा शरीर बना है उसमे जल लगभग 72% पृथ्वी-12%, वायु-6%, अग्नि-4%, और आकाश भी 6% हैं और राहू देव उत्तरी ध्रुव के मालिक हैं और केतू देव दक्षिणी ध्रुव मे मालिक हैं उत्तर दिशा जल तत्व की होती है और हमारे शरीर और पृथ्वी पर भी जल लगभग 72% है इसीलिए हमारे जीवन और पृथ्वी पर जल का संतुलन होने से हमारा शरीर भी अच्छा रहेगा, जीवन भी अच्छा रहेगा, और जन्म कुंडली मे राहू देव भी अच्छा ही फल देंगे, फिर चाहे वो कहीं भी बैठे हों, जल यानि चन्द्र और चन्द्र देव मन के मालिक होते हैं राहू देव मन मे चंचलता पैदा करते हैं और चन्द्र देव मन को चंचल होने से रोकते हैं उसे सही दिशा मे कार्य करने के संदेश देते हैं, इसीलिए जब आपकी जन्म कुंडली मे चन्द्र देव अच्छे हों तो राहू देव भी अच्छा फल दे सकते हैं, और जब चन्द्र देव खराब होते हैं तो जातक को बहुत जल्दी डिप्रेशन होने लगता है, वो हर किसी से या तो लड़ने लगता है या फिर सबसे अलग-थलग जाकर बैठ जाता है, और गलत कार्यों की तरफ आकर्षण पैदा करके उनमे लीन कर देता है, इसीलिए इसको हर ग्रह के बुरे प्रभाव से बचाना चाहिए। राहु

राहू और मंगल करते हैं शरीर का नाश-
यही राहू जब कुंडली के खराब घरों मे मंगल के साथ बैठ जाएँ तो सेहत का ऐसा धुआँ निकालते हैं कि इंसान सोच भी नहीं सकता है, यह योग केतू को खराब कर देता है, जातक को राहू से संबन्धित रिशतेदारों से धोखा और नुकना मिलना शुरू हो जाता है, अर्थात ससुराल पक्ष से तकलीफ मिलने लगती है, इसके लिए भी जातक स्वयं ही जिम्मेदार होता है क्योंकि ऐसा जातक की शादी के पहले बहुत ज्यादा घमंडी, या फिर कड़वी भाषा का प्रयोग करता है, नतीजा इसका यह होता है कि जन्म कुंडली मे केतू देव खराब हो जाते हैं, और फिर उसको कहीं भी मान-सम्मान नहीं मिलता है, लड़की हो तो ससुराल मे सब रिश्तेदार उसको दुखी करने लगते हैं, और लड़का हो तो उसकी शादी ऐसी लड़की से होगी जो उसकी शादी-शुदा जीवन को खराब करने का कारण बनेगी, और धीरे-धीरे उसी चिंता मे जातक की सेहत, और जीवन की खराबी का हालात बनने लगते हैं, परंतु यदि जातक बहुत स्पष्ट और अच्छे शब्दों का चयन करके बात करे, सभी के साथ मन और विचार अच्छे हों और सभी के साथ मीठे बोल बोले तो ऐसा जातक महाभारत मे संजय की तरह बहुत तेज दिमाग, बहुत तेजी के साथ सभी के मन और दिमाग को पढ़ने वाला और जीवन मे सभी को सुखी रखने वाला और स्वयं भी सुखी और स्वस्थ्य जीवन जीने वाला होता है, उसके पास बहुत पैसा होता है, बड़े बड़े लोग ऐसे जातक के पास उसके सारे काम करने के लिए हमेशा तैयार बैठे रहते हैं, और वो सभी के साथ सिर्फ मीठी बातें करके अपने काम निकलवाते रहेंगे। राहु
हर बीमारी का है इलाज, हर समस्या का है इलाज, क्योकि जब समस्या है तो समाधान भी है, जरूरत होती है तो बस एक सही रास्ते की और सही इलाज की। राहु

अपनी जन्म कुंडली का सही विश्लेषण और उपाय जानने के लिए कॉल करें- 9899592225 or Click here
हम आपको software से कॉपी करके जन्म कुंडली नहीं देते हैं, बल्कि सही उपाय और सलाह देते हैं। Happy Good Profession

Subscribe our Youtube Channel :-Click here